Shayaris That Blow Your Mind and Heart Hindi Collection

Shayaris That Blow Your Mind and Heart Hindi Collection – Some Selected Awesome Hindi Urdu shayaries for shayarie lovers that pump blood in heart and blow your mind to think more deeply.

पैदा उल्फत में वो सिफात करें पत्थरों के सनम भी बात करें
तुम जरा रूह के करीब आओ जिस्म के दरमियां क्या बात करें

विशिष्ट है आपका ये जन्मदिन
षुभकामना है बार-बार आए यह सुदिन

कामयाबी की मिसाल आपके पूरे पचास साल
तुम हमेषा पत्रकारिता के भाल का तिलक बनकर चमको

मान अधूरा लगता है सम्मान अधूरा लगता है 
एक राजीव तेरे बिना संसार अधूरा लगता है

तुम सही वक्त पर खबरों को
इसी तरह क्लिक करते रहो

समय समय की बात है समय समय  का योग
लाखों मंे बिक रहे है दो कौड़ी के लोग

हमने किया गुनाह तो दोजख हमें मिला
दोजख का क्या गुनाह जो दोजख को हम मिले।

कायरता जिन चेहरो का श्रंगार करती है 
मक्खियाॅ भी उन पर बैठने से इंकार करती है।

लाली लाली डोलियाॅ में लाली रे दुल्हनियाॅ
पिया की दुलारी भोली भाली रे दुल्हनियाॅ
तेरी सब राते हो दीवाली रे दुल्हनियाॅ
लाली लाली डोलियाॅ में लाली रे दुल्हनियाॅ
दुल्हे राजा रखना जतन से दुल्हन को 
कभी न दुखाना तुम गोरिया के मन को
नाजुक है नाजो की है पाली रे दुल्हनियाॅ

एक ब्राह्मण ने कहा है के ये साल अच्छा है
जुल्म की रात बहुत जल्द ढलेगी अब तो
आग चूल्हो मे हरेक रोज जलेगी अब तो
भूख के मारे कोई बच्चा नहीं रोएगा
चैन की नींद हर एक शख्स यहाॅ सोएगा।
आॅंधी नफरत की न चलेगी कहीं अब के बरस
प्यार की फस्ल उगाएगी जमीं अब के बरस
है यकी अब ना कोई शोर शराबा होगा ।
जुल्म होगा ना कही खून खराबा होगा
ओस और धूप के सदमे ना सहेगा  कोई
अब मेरे देष में बेघर न रहेगा कोई ।
नये वादो का जो डाला है वो जाल अच्छा है।
रहनुमाओ ने कहा है ये साल अच्छा है।
दिल को खुष रखने का गालिब यह ख्याल अच्छा है ।

दुष्मन को भी सीने से लगाना नहीं भूले
हम अपने बुजुर्गाें का जमाना नहीं भूले
तुम आॅंखो की बरसात बचाए हुये रखना
कुछ लोग अभी आग लगाना नहीं भूले।
ये बात अलग हाथ कलम हो गये अपने
हम अपनी तस्वीर बनाना नही भूले।
एक उम्र हुई मैं तो हॅंसी भूल चुका हूॅ
तुम अब भी मेरे दिल को दुखाना नही भूले।

उनके मकबरे पर तो एक भी दिया नही
जिन्होंनें अपना खून चढ़ाया वतन पर
जगमगा रहे है मकां उन्हीं के
बेचा जिन्होंने शहीदो के कफन को

Hindi Shayari on Desh Bhakti - Shahid Jindabaad

कोई चांदनी रात का चांद बनकर तुम्हारे तसव्वुर में आया तो होगा
किसी से तो की होगी तुमने मोहब्बत किसी को गले लगाया तो होगा
तुम्हारे ख्यालों की अंगड़ाइयों में मेरी याद के फूल महके तो होंगे
कभी अपनी आंखों के काजल से तुमने मेरा नाम लिखकर मिटाया तो होगा
लबों से मोहब्बत का जादू जगाके भरी बज्म में सबसे नजरे बचाके
निगाहों की राहों से दिल में समाके किसी ने तुम्हें भी चुराया तो होगा
कभी आइने से निगाहें चुराकर जली होगी भरपूर अंगड़ाइयों में
तो घबराके खुद तेरी अंगड़ाइयों ने तेरे हुस्न को गुदगुदाया तो होगा
निगाहों में षम्मे तमन्ना जलाके तकी होगी तुमने भी राहे किसी की
किसी ने तो वादा किया होगा तुमसे किसी ने तुम्हें भी रूलाया तो होगा

तुझसे मिलकर उंगली मीठी लगती है
तुमसे बिछड़कर षहद भी खारा लगता है
तेरे आगे चांद पुराना लगता है
तुझसे मिलके कितना सुहाना लगता है

माषूक का बुढ़ापा लज्जत दे रहा है
अंगूर का मजा किषमिष में आ रहा है

जड़ दो चांदी चाहे सोने में
आइना झूठ बोलता ही नहीं है
सच हारे या बढ़े तो सच ना रहे
झूठ की कोई इंतहा नहीं है

सुनते है कि मिल जाती है हर चीज दुआ से
एक रोज तुझे मांगकर देखंेगे खुदा से

तुझको यूं देखा है, यूं चाहा है, यूं पूजा है
तू जो पत्थर भी होती तो खुदा हो जाती

कहां ले जाएगा बांधकर तू ये षान ओ षौकत
कि कफन में कभी किसी के भी जेब नहीं होता

प्यास है ओस की बूंद पिये लेते हैं
रात है तारों को देखकर जिये लेते हैं
तुम न दे सके लेकिन भरोसा मुझको
जाओ तुम्हें चांद सी मुस्कान दिये देते हैं

क्षितिज तक प्रत्येक दिषा में हम उठे नवप्राण भरने
नवसृजन की साध लें हम उठे निर्माण भरने
साधना के दीप षुभ हो ज्ञान का आलोक छाए
नष्ट तृष्णा के तिमीर हो धाम अपना जगमगाए

तंग आकर मरीज ने अस्पताल से छलांग लगाई
तो डाॅक्टर ने टांग पकड़कर प्रभाती सुनाई
सुबह-सुबह षहर को प्रदूषित करता है नादान
खाली हाथ कहां चला जजमान फोकट में मुक्ति पाएगा
अबे मुर्दे को तो छोड़ा नहीं जिंदा कैसे जाएगा

भूख हर दर्षन का घूंघट उतार देती है
रोटी सामने हो तो लाजवंती भी कपड़े उतार देती है

इस देष में जिंदा लोग रहते हैं मुझे तो इस बात पर भी षक है
यारों ऐसे लोगों को जीने का क्या हक है
जो अपनी बदनसीबी पर खिलखिलाए
और पचास साल में पचास ईमानदार आदमी भी नहीं ढूंढ पाए

पत्थर उबालती रही एक माॅं तमाम रात
बच्चे फरेब खाकर चटाई पर सो गए

कभी तो कोई सच का साथ देेने सामने आए
कि हरेक सच के लिये मुजरिम हमारी जुबां क्यों हो

लोग टूट जाते हैं एक घर बनाने में
तुम तरस नहीं खाते बस्तियाॅं जलाने में

‘‘दुष्मनी जमकर करो, लेकिन ये गुंजाइष रहे
जब कभी हम दोस्त हो जाएं तो षर्मिन्दा न हों‘‘

खुदा महफूज रखे मुल्क को गंदी सियासत से
षराबी देवरों के बीच भोजाई रहती है

मिलकर बैठे भी और कोई न हो
खुदा करे कभी ऐसी कोई मुलाकात न हो

ऐ दिल जो हो सके तो लुत्फे गम उठा ले
तन्हाइयों में रोले महफिल में मुस्कुरा ले

दिनभर गमों की धूप में जलना पड़ा हमें
रातों को षमां बनकर पिघलना पड़ा हमें
हर एक कदम पे जानने वालों की भीड़ थी
हर एक कदम पे भेस बदलना पड़ा हमें

दिल के लहु को मेहंदी की खुषबू ने छीन लिया
जो हुआ बेटा जवान तो बहू ने छीन लिया

मेरा क्या है फिर एक सूरज उगा लूंगा
उजाले उनको दो जो तरसते हैं उजालों को
मेरी मजदूरी पर निगाह भी जमाने की
पर किसने देखा मेरे हाथों के छालों को

लब पे आए जिक्रे काना कहे काषी भी साथ-साथ
बात जब है कि हो नमाज और आरती भी साथ-साथ
कोई कहता है खुदा कोई कहता है नहीं
चल रही है झूठ और सच की कहानी साथ-साथ
नन्हें जहनों पर ये भारी बोझ किसने रख दिया
फिक्र रोटी-दाल की और ए बी सी डी साथ-साथ

जितने कष्ट कंटकों में हैं उनका जीवन सुमन खिला
गौरव गंध उन्हें उतना ही यत्र-तत्र-सर्वत्र मिला

मोहब्बतों में था जो खुमार वो जाता रहा
बुरा ना मान पर एतबार जाता रहा

Hindi Shayari Mohobat me tha jo khumar jata raha - bold girl

इनके साथ 950 करोड़ लोगों का प्यार था
तो उनके साथ वे भी नहीं थे, जिन्होंने उन्हें भेजा
इन षहीदों के पार्थिव षरीर के लिये षहर उमड़ पड़ा
तो उनके गद्दारों के षव भी हमें दफनाना पड़े

तजुर्बों में कमी रही होगी
हादसे बेसबब नहीं होते

आगे बढ़ने का जिनमें है साहस
लोगों की आषाओं का जिन्हें है अहसास
कर्म करने में जिन्हें है विष्वास
सेवा और दयालुता का जिन्हें है अहसास
ठिकाना है उनका सेठी निवास

सफलता आपके यूं ही कदम चूमे
खुषियों ऐसे अवसर आते रहें आप झूमें
प्रगति और सफलता, विस्तार और उपलब्धियां
आपके कार्य को मिले नित-नित नई ऊंचाइयाॅं

अग्रणी रहने का जिनमें है साहस
नमोकार मंत्र जैसा जिन पर हमें है विष्वास
षक नहीं ऐसी दोस्ती पर बढ़ाया है हमारा आत्मविष्वास
मार्ग जिन्होंने सदा दिखाया चलो चले सिस्ट निवास

तुम्हारे इष्क पर कुरबान है मेरी सारी जिंदगी
पर मादरे वतन पर मेरा इष्क भी कुरबान है

आंधियां मगरूर दरख्तों को पटक जाएगी
वही षाख बचेगी जो लचक जाएगी

तू जब रिष्तों की समाधी बनाने जाएगा
ये बता विष्वास की मिट्टी कहां से लाएगा
दक्षिणा के नाम पर चाहे अंगूठा मांग ले
तेरा पागलपन तुझे इतिहास बनकर खाएगा

घर से मस्जिद है बड़ी दूर चलो यूं कर लें
किसी रोते हुए बच्चे को हंसाया जाए

हमसे उजली ना सही राजपथो की षाम
जुगनू बनकर आएंगे हम पगडंडी के काम

यूं बेबस ना रहा करो कोई षाम घर भी रहा करो
वो गजल की सच्ची किताब है उसे चुपके-चुपके पढ़ा करो
मुझे इष्तहार सी लगती है ये मोहब्बतों की कहानियाॅं
जो कहा नहीं वह सुना करो, जो सुना नहीं वह कहा करो
अभी राह में कई मोड़ हैं कोई आएगा कोई जाएगा
तुम्हें जिसने दिल से भुला दिया उसे भूलने की दुआ करें

दीवानगी हो, उम्मीद हो अक्ल हो या आस
अपना वही है वक्त पे जो काम आ गया

फूल थे गैर की किस्मत में ही ऐ जालिम
तूने पत्थर ही मुझे फेंक के मारे होते

दिल अभी पूरी तरह टूटा नहीं
दोस्तों की मेहरबानी चाहिये

रात को दिन में मिलाने की हवस थी हमको
काम अच्छा ना था अंजाम भी अच्छा ना हुआ

संयोग न हो तो मिलन नहीं संभव
गज भर की दूरी भी योजन बन जाती है
यदि मिलन हो तो भू-अंबर में
किरणों वाली सीढ़ी बन जाती है

जो पे्रम में रोया ना हो जिसने पे्रम विरह को जाना ना हो
उसे तो प्रार्थना की तरफ इंगित भी नहीं किया जा सकता
इसलिये मैं पे्रम का पक्षपाती हूं प्रेम का उपदेष दे रहा हूं
कहता हूं पे्रम करो, क्योंकि पे्रम का निचोड़ ही एक दिन प्रार्थना बनेगा
प्रेम की एक हजार बूंद निचोडे़गे तब कहीं प्रार्थना की एक बूंद एक इत्र की बूंद बनेगी

दोस्त के लिये जान देने के लिये हर कोई तैयार है
बषर्ते जान देने का मौका नहीं आए।

दोस्त मददगार होते है पर इस षर्त पर कि आप उनसे मदद ना मांगे।

सबसे दुष्वार होता है दोस्त की कामयाबी पर मुबारकबाद देना
हाय आंख में आंसू हैं और लब पर मुस्कान।

अगर आपके यहां खुषी का कोई मौका है और आपने दुनिया को उसमें
हिस्सेदारी की दावत देते हैं तथा आप मेरे हरे दोस्त होते हुए भी मुझे भूल गए
मैं इसकी षिकायत नहीं करूंगा, बल्कि खुष हो आप कि आपने खुषी में मुझे याद
नहीं किया। अपनी दोस्ती आपने निभायी, लेकिन खुदा ना खास्ता कभी आप पर मुसीबत
आ जाए और आप उसकी खबर मुझे न दें ताकि मैं आपके कुछ काम ना आ सकूं तो मैं
जरूर बुरा मानूंगा कि आप मुझे अपना दोस्त नहीं मानते।

हे भगवान ! दोस्तों से मेरी रक्षा कर, दुष्मनों से तो मैं खुद अपनी रक्षा कर लूंगा।

अगर मुझे दोस्त या मुल्क में से किसी एक के साथ गद्दारी करना पड़े तो मैं मुल्क
के साथ कर लूंगा।

चिरागों को जलाने में जला ली उंगलियां हमने
समझते थे मगर रखी ना फिर भी दूरियां हमने

पुलिस और ईमानदारी क्या बात करते हो श्रीमान्
जैसे सरदारों के मोहल्ले में दुकान

‘‘षब्द के मोती चुगने और बुनने वाला पत्रकारिता का हंस
अपने विषाल पंखो के बावजूद हल्की सी सरसराहट किये
बगैर ही उड़ गया‘‘

मधुमय वसंत जीवन वन के तुम अंतरिक्ष की लहरों में
कब आए थे चुपके से, रजनी के पिछले प्रहरों मंे
क्या तुम्हें देखकर आते यांे मतवाली कोयल बोली थी
उस नीरवता में अलसाह कलियों ने आंखे खोली थी।

किसी ने जर दिया, जेवर दिया, किसी ने खुषी दे दी
किसी का घर बसाने को हमने अपने घर की रोषनी दे दी

बेटे और पिता का हाथ दो बार ही मिलना चाहिये। एक बार
जब बाप-बेटे का हाथ पकड़कर चलना सिखाए, दूसरा जब
बूढ़े बाप को बेटा हाथ पकड़कर सहारा देकर चलाए। जवान
बेटे और बाप का आपस में हाथ मिलाना हमारी संस्कृति नहीं है।

दीवार में दरारे नहीं आती हैं, जहां दरारे पड़ती हैं वहां दीवार खींची जाती हैै।
Hindi Shayari Diwar me Darare nai aati h - Relationship Quotes in hindi
आज के समय में जब मेरे कमरे में से चीख की आवाज आती है, जब दूसरे
भाई के कमरे में से ठहाके की आवाज आती है। यह समझ में नहीं आता है
कि मेरी चीख को सुनकर वे ठहाके लगा रहे हैं या उनके ठहाके को सुनकर
मेरी चीख निकल रही है।

हम माॅं-बाप के साथ रहे, वे हमारे साथ ना रहे
पहले मैं माॅं-बाप के साथ रहता था, अब वे मेरे साथ रहते हैं।

मनुष्य मूलतः अच्छे स्वभाव का प्राणी है। हमारी सोच नकारात्मक हो गई है।
हम चाहते हैं कि हम भले ही मैच हार जाएं पर पाकिस्तान फाईनल नहीं जीत पाए।

एक बार तीन व्यक्तियों को भगवान ने वरदान दिया- एक को गोरा, दो को गोरा
तीसरा बोला- दोनों को वापस काला कर दो।

एक बार भगवान बोला- तेरे को जो होगा, उससे पड़ोसी को दुगुना होगा। तो मैंने कहा
मेरी एक आंख फूट जाए।

हम जब कम पढ़े-लिखे थे तो सरदार पटेल को ज्यादा चुनते थे। अब ज्यादा पढ़-लिख
लिये तो फूलन देवी को चुनते हैं।  हम षिक्षित तो हो गए पर सभ्य नहीं हो पाए।

अगर कहीं पर्वत है तो यकीन मानिये आस-पास कहीं नदी भी होगी
बिना हृदय में गहरा दर्द संजोए कोई कोई इतना ऊंचा उठ नहीं सकता।

खंडवा जैसे छोटे षहर में आदमी इस खुषी में ही जिये जाता है
कि उसके मरने पर बहुत लोग आएंगे।

बच्चे फूलगोभी हैं, माॅं-बाप बंदगोभी

अजान की तरह पढि़ये, आरती की तरह गाइये

पीतल की बाली भी नहीं उसकी बीबी के कान में
जिसने अपनी जिंदगी गुजार दी सोने की खान में

जाएगी कहां मौज किनारों को छोड़कर
मिल जाएगा सुकून क्या सहारों को छोड़कर
मानाकि हमसे दूर चले जाओगे मगर
रह भी सकोगे क्या इष्क के मारो को छोड़कर

असत्य में षक्ति नहीं होती उसे अपने अस्तित्व
के लिये भी सत्य का सहारा लेना होता है।

सत्य बोले- प्रिय बोले, ऐसा सत्य न बोलें जा प्रिय ना हो
ऐसा प्रिय ना बोलें जो सत्य ना हो।

दुष्कर्म से सफलता की कामना करने के बजाय सत्कर्म करते हुए मर जाना बेहतर है।

जब  क्रोध उठे तो उसके नतीजे पर विचार करो।

जिस दिन मनुष्य दूसरों की पीड़ा को अपनी पीड़ा समझेगा
मांसाहार उसी दिन समाप्त हो जाएगा।

वाणी से आदमी की बुद्धि और औकात का पता लग जाता है।

ज्ञान पाप हो जाता है, अगर उद्येष्य षुभ ना हो।

लेके तन के नाप को घूमे बस्ती-गांव
हर चादर के छोर से बाहर निकले पांव

सातो दिन भगवान के क्या मंगल, क्या पीर
जिस दिन सोये देर तक भूखा रहे फकीर

अच्छी संगत बैठकर संगी सदले रूप
जैसे मिलकर आम से मीठी हो गई धूप

चाहे गीता बाचिये या पढि़ये कुरआन
मेरा-तेरा प्यार ही हर पुस्तक का ज्ञान

वो रूलाकर हंस न पाया देर तक
जब मैं रोकर मुस्कुराया देर तक
भूखे बच्चों की तसल्ली के लिये
माॅं ने फिर पानी पकाया देर तक

कैसे पता चले पतझड़ है या बहार
ऐ दोस्त कोई पेड़ नहीं आस-पास में

मावस का मतलब बिटिया को भूखी माॅं ने यूं समझाया
भूख की मारी रात अभागन आज चांद को निगल रही है

दुश्मनी का सफर इक कदम, दो कदम
तुम भी थक जाओगे हम भी थक जाएंगे

उलझे हुए दामन को छुड़ाने की सजा है
खुद अपने चिरागों को बुझाने की सजा है
षहरों में किराए का मंका ढूंढ रहे हम
ये गांव का घर छोड़कर आने की सजा है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *